भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब तय किया नहीं चलूंगा लीक पर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तय किया नहीं चलूंगा लीक पर।
दुनिया बोली- अपना चलन ठीक कर।

बड़े अंदाज से पूछते वे हमको-
क्या पाया इस मौसम को रक़ीब कर?

आ, अब कारणों के कारण तलाशें,
कब तक रोते रहें सिर्फ नसीब पर?

हर आंगन में हों खुशी के फव्वारे,
जी रहे सिर्फ उस दिन की उम्मीद पर।

कहने को लाखों आराम कर दिए,
मगर हम तो हैं आज भी सलीब पर।