भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब दम तमाम होगा / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
जब दम तमाम होगा
अपना भी नाम होगा

सजदा रहा है जी कर
मर कर सलाम होगा

मुझसे अधिक तो मेरे
शब्दों का दाम होगा.

कल रेत की जमीं पर
सागर का जाम होगा.