भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जब देंगे हम कुछ बयां और / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब देंगे हम कुछ बयां और।
होंगे लोग कुछ उरियां और।

यहां से बच निकले तो क्या,
सामने मिलेंगे वहां और।

बगावत पे हैं दबी सांसें,
बचकर जायेंगे कहां और?

वहां बुझा दी तो क्या हुआ,
जल उठी, लो आग यहां और!

दम न घुटे, सबको मिले हवा,
आओ कि बसायें जहां और।