भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब दो पैर जमीन में डूबे हों / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब दो पैर जमीन में डूबे हों
     और कीचड़ में सने हाथ
     रोपते हों धान।
     तब
     ऊँचे माथे के
     ठीक नीचे
     दो चमकदार आँखें
     देखती हों तारे।
     दो होंठ मुसकाते हों
     मिट्टी और तारों के बीच।
     यह भी हो सकता है
     जीने का तरीका।
     कि ये दो हाथ
     दो पैर
     आँखें
     और होंठ
     एक ही इंसान के हों।