भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब भी उससे हाल-ए-दिल कह आये हैं / 'महताब' हैदर नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी उससे हाल-ए-दिल कह आये हैं
वापस आकर हम कितना पछताये हैं

तेरा चेहरा बिलकुल याद नहीं आता
बीच में जाने कैसे कैसे साये हैं

तू अपनी राहों की मसावत कम कर दे
तेरी आहट की हम आस लगाये हैं

थककर वापस आने की जब बात चली
सबसे पहले हम घर वापस आये हैं

कितनी रातें जागती आँखों से काटीं
राज़ मगर ख़्वाबों के समझ न पाये हैं