भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब मुँद जाएँ मेरी आँखें, ऐ हमदम मेरे / क्रिस्टीना रोजेटी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मुँद जाएँ मेरी आँखें, ऐ हमदम मेरे,
न गाना उदासी का कोई गीत तुम मेरे लिए,
न रोपना मेरे सिरहाने गुलाब की पौध कोई,
और न ही लगाना कोई छायादार पेड़ सरू का,
हो सके तो बिछ जाना तुम मुझ पर बनकर हरी घास,
फुहार और ओस की बूँदों से भिगोते रहना,
और अगर कुम्हलाने लगो तुम, तो याद रखना,
और अगर कुम्हलाने लगो तुम, तो भूल जाना।

नहीं देखूँगी मैं किसी भी परछाईं को,
और न ही महसूस करूँगी किसी बरसात को,
मैं नहीं सुनूँगी किसी बुलबुल की आवाज़ को,
और उसके दुखद गीत को,
और न ही देखूँगी कोई स्वप्न उस धुँधलके में,
जो न उदित होता है और न ही
उसके अस्त होने का पता,
हो सकता है मैं याद रखूँ,
हो सकता है मैं भूल भी जाऊँ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सोनाली मिश्र

और अब पढ़िए कविता मूल अँग्रेज़ी में
When I am dead, my dearest

When I am dead, my dearest,
Sing no sad songs for me;
Plant thou no roses at my head,
Nor shady cypress tree:
Be the green grass above me
With showers and dewdrops wet;
And if thou wilt, remember,
And if thou wilt, forget.

I shall not see the shadows,
I shall not feel the rain;
I shall not hear the nightingale
Sing on, as if in pain:
And dreaming through the twilight
That doth not rise nor set,
Haply I may remember,
And haply may forget.