भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब मुहब्बत का किसी शय पे असर हो जाए / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब महब्बत का किसी शय पे असर हो जाए
एक वीरान मकां बोलता घर हो जाए

मैं हूँ सूरजमुखी तू मेरा है दिलबर सूरज
तू जिधर जाए मेरा रुख़ भी उधर हो जाए

रंजो-ग़म, ऐशो-खुशी जिसके लिए एक ही हों
उम्र उस शख़्स की शाहों-सी बसर हो जाए

जो भी दुख, दर्द, मुसीबत का पिये विष हँसकर
क्यों न सुक़रात की सूरत वो अमर हो जाए

लौट आओ जो कभी राम की सूरत तुम, तो
मन का सुनसान अवध दीप-नगर हो जाए

खा के पत्थर भी जो मुस्कान बिखेरे हर सू
बाग़े-आलम का वो फलदार शजर हो जाए

हमने जाना है यही आ के जहां में 'दरवेश'
होना चाहे जो न हरगिज़ वो बशर हो जाए