भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब सबसे आख़िरी दुख / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब सबसे आख़िरी दुःख भी
मार चुका होगा
हमारा दर्द सब
मैं चली आऊँगी तुम्हारे पीछे-पीछे
ठीक अगली रेलगाड़ी से ।

इसलिए नहीं कि ताक़त की कमी है मुझमें
आख़िरी नतीजे को विचारने के लिए ।

बल्कि शायद भूल गए हो तुम ले जाना
दवाएँ, टाई, रेजर-ब्लेड...।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल