भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब समय था / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जब समय था
तब तो तुमने आँखें फेर ली थीं,
अपने चारों ओर
तटस्थता की दीवारें घेर ली थीं,
और अब,
जब विदा की वेला आयी है,
तुम्हारी पलकों में आँसू की बूँद झिलमिलाई है