भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जब से तेरा अक्स मुझ में दिखने लगा है / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब मुझे आईने से डर लगने लगा है ,
जब से तेरा अक्स मुझ में दिखने लगा है !

अक्सर मेरे ख़याल मुझसे ये सवाल करते हैं ,
इधर तू कुछ बदला-बदला दिखने लगा है !

इक मुद्दत हुई ख़ुद को भूले हुए मुझे,
अब तो ज़र्रे-ज़र्रे में तू ही तू दिखने लगा है !

ग़म-ए- दर्द का इल्म ही न रहा दिल को ,
जबसे तेरे अश्कों में आबे-हयात दिखने लगा है !

कहाँ है ख़ुदा और किसे करूँ सजदा यहाँ,
अबतो मेरे अज़ीज़ में ही ख़ुदा दिखने लगा है !