भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जमनै में थे जूतां रो जोर देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जमनै में थे जूतां रो जोर देखो
बादळ देख नाचै कोनी मोर देखो

आभै ऊंचा चढ बिरथा हरखै किनका
दूजां रै हाथ है आं री डोर देखो

आवै-जावै नित कूड़ा बाग दिखावै
नेता सरखा झांसै बाज लोर देखो

घड़ी छोडै घड़ी गायब करै चांद नै
बादळ हुया धाडेती-ठग-चोर देखो

ना कठैई उजास, ना लाली, ना हरख
म्हांनै नीं चाइजै ऐड़ी भोर देखो