भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जमहूरियत / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जमहूरियत

इस राज़[1]को इक मर्दे-फ़िरंगी[2] ने किया फ़ाश[3]
हरचंद कि दाना[4]इसे खोला नही‍ करते

जमहूरियत[5]इक तर्ज़े-हुकूमत[6]है कि जिसमें
बन्दों को गिना करते है‍ तोला नहीं करते

शब्दार्थ
  1. रहस्य
  2. यूरोपीय व्यक्ति
  3. प्रकट
  4. समझदार
  5. लोकतंत्र
  6. शासन पद्धति