भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जम जाएंगे ठंड से दो सूर्य / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जम जाएंगे ठंड से दो सूर्य,
रहम कर, ओ ईश्वर !
एक सूर्य जम जाएगा आकाश में
और दूसरा मेरी छाती में ।

क्षमा कर पाऊंगी क्या मैं स्वयं अपने को-
किस तरह इन सूर्यों ने
कर डाला है मेरा दिमाग ख़राब ।

जम जाएंगे ठंड से ये दोनों सूर्य,
तनिक भी नहीं होगी पीड़ा उनकी ठंडी किरणों से ।
जो चमक रहा है आज अधिक ताप से
ठंड से वही जम जाएगा सबसे पहले ।

रचनाकाल : 5 अक्तूबर 1915

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह