भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जय छत्तीसगढ़ भूईयाँ / प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जय जुहार हो छत्तीसगढ़ भूईयाँ।
केलो नदी महतारी पखारे तोर पईयाँ।

धान के कटोरा हावस,
सबके दुःख मिटईया अस।
हावस दाई ते तो ओ,
सबके भूख मिटईया।

तोरे कोरा म दाई,
पाथन जीये के सहारा।
धन देवईया-यश देवईया,
हावस ते सुख देवईया।