भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जय बोलो बेईमान की / काका हाथरसी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जय बोलो बेईमान की
Jai bolo hanumaan ki.jpg
रचनाकार काका हाथरसी
प्रकाशक डायमण्ड पॉकेट बुक्स, नई दिल्ली
वर्ष
भाषा हिन्दी
विषय
विधा
पृष्ठ 120
ISBN
विविध
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।