भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जलपरी / ज़्देन्येक वागनेर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जलपरी,
तुम कौन-सी नदी में
कल पड़ी?

जलकन्या,
तुम्हारा इंतज़ार मैंने तो
कल किया।

आज क्षीण-सी धाराएँ
दूर से दूर तक
भूमि पर बहती हैं।

कहो अब मुझसे –
कहाँ कल मुझको
मिलना है तुमसे?

वह क्या है
जो पूरी करेगा
मेरी चाहत?

शायद बरसात।


और अब यही कविता चेक भाषा में
Rusalko




Rusalko, řekni,
do které včera
lehla sis řeky?

Rusalko, já včera
na tebe čekal jsem
z rána do večera.

Dnes tenký pramínek
po zemi plazí se
z daleka do dálek.

Chci se tě zeptat –
kde zítra s tebou
mohu se potkat?

Co někdy ještě
splní mou touhu?
Snad jenom deště.