भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जल्वागर जब सों वो जमाल हुआ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जल्‍वागर जब सों वो जमाल हुआ
नूर-ए-ख़ुर्शीद पायमाल हुआ

नश्‍शए-सब्‍ज़ए-ख़त-ए-ख़ूबाँ
वाली-ए-आलम-ए-ख़याल हुआ

याद कर तुझ भवाँ की बैत-ए-बुलंद
माह-ए-नो साहिब-ए-कमाल हुआ

देख कर तुझ निगाह की शोख़ी
होश-ए-आशिक़ रम-ए-ग़ज़ाल हुआ

हुस्‍न उस दिलरुबा का मुद्दत सों
अक्‍स-ए-आईना-ए-ख्‍य़ाल हुआ

वस्‍फ़ में तुझ भवाँ के हर मिसरा
सानी-ए-मिसरए-हलाल हुआ

जिनने देखा है तुझ निगाह का तेग़
फिर के जीना उसे मुहाल हुआ

अज़ल मजनूँ के बाद मुझकूँ 'वली'
सूबा-ए-आशिक़ी बहाल हुआ