भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जवानी : बुढ़ापो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां ऽऽ,
बा आवती दीसी तो सरी
पण ठैरी कोनी
अळघै सूं ई निसरगी
दे झोलो
ले ओलो
लोग कैवै-
जवानी ही बा !

पण म्हारै कनै तो है अबै
सळां भरी चामड़ी
गूगळी दीठ
पींडियां में सरणियां
बूकीया में चबका

म्हैं जाणू-
बुढापो है ओ !