भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूंवां-फूंवां हुय’र
बिण आतमघात री सोची
अर
जहर खायग्यो
पण मरियो कोनी
डागदर री रिपोर्ट कैवै-
जहर नकली हो !