भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहाँ जहाँ पर पहुँचा घोड़ा / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ जहाँ पर पहुँचा घोड़ा
घुड़सवार का बजा हथौड़ा ।

चरागाह पर पाया कब्ज़ा
चरवाहों को नाथा-जोड़ा ।

जिसने कभी न-नुकुर की
उसको तो जीभर के तोड़ा ।

जिसने उसकी बात न मानी
उसका वंश हुआ निगोड़ा ।

पाँव जमे है रक़ाब पर
और हाथ में चमके कोड़ा ।

बड़े-बड़ों को डँस जाएगा
विषधर है यह साँप का जोड़ा ।

किसी-किसी की मूढ़ी दाबी
और किसी की बाँह मरोड़ा ।

वटवृक्ष गमले में आए
पर्वत-पर्वत हो गए लोढ़ा ।

बड़े सूरमा हो गए पतई
कालनेमि ने किसको छोड़ा ।