भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़बाँबन्दी से खुश हो, खुश रहो, लेकिन यह सुन रक्खो / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

ज़बाँबन्दी से ख़ुश हो, ख़ुश रहो, लेकिन यह सुन रक्खो।
ख़मोशी भी मेरी अफ़साना बन जायेगी महफ़िल में॥

दिल और तूफ़ानेग़म, घबरा के मैं तो मर चुका होता।
मगर इक यह सहारा है कि तुम मौजूद हो दिल में॥

न जाने मौज क्या आई कि जब दरिया से मैं निकला।
तो दरिया भी सिमट कर आ गया आग़ोशे-साहिल में॥