भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़बाने बे-ज़बानी से हदीसे-ग़म भी कहते हैं / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़बाने बे-ज़बानी से हदीसे-ग़म भी कहते हैं
सुनो ऐ सुनने वालों हां सुनो कुछ हम भी कहते हैं

उन्हें ताज़ा बिनाए-शिकवा पैदा हो ही जाती है
जो हम कुछ बर-बिनाए शिकवाए-बाहम भी कहते हैं

हमें अज़बर हज़ारों दास्तानें हैं ज़माने की
सुने कोई तो अपनी दास्ताने-ग़म भी कहते हैं

दहाने-जख़्म ही फ़रयाद-आमादा नहीं ज़ालिम
ज़बाने-हाल से कुछ दीदाए-पुर हम भी कहते हैं

न कर पीरे-मुगां की शान में ऐ शैख़ गुस्ताख़ी
इन्हीं को कहने वाले क़िबला-ए-आलम भी कहते हैं

नहीं कहने को हाज़त ऐ 'वफ़ा' ज़िन्हार मौसम की
कि हम कहने पर आ जाएं तो बे-मौसम भी कहते हैं।