भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़माना पहले / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस याद को मैं बखानना चाहूँगा...
लेकिन अब इतना झिलमिला गई है यह...शायद ही बचा है कुछ -
ज़माना पहले थी यह क्योंकि, मेरी मसें भीगने के सालों में।

एक त्वचा मानो चमेली से बनी...
अगस्त की उस शाम - क्या वह अगस्त था ? - उस शाम...
अब भी ला सकता हूँ पर याद में आँखें : नीली, मैं सोचता हूँ वे थीं...
अरे हाँ,नीली : एक नीला नीलम ।
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद : पीयूष दईया