भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़मीन जो अघु / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुन लाइ उहा ज़मीन
फ़क़त हिक माप हुई
माप जेॾी वॾी हून्दी
अघु ओतिरो वॾो हून्दो
हुन लाइ इन्हीअ ॻाल्हि जो
को मतलबु कोन हो
त उन्हीअ ज़मीन सां
कहिंजो कहिड़ो रिश्तो हो?
पिता हिन ज़मीन सां कन्दो हो
साह खां बि वधीक प्यारु
अक्सर वेही रहन्दो हो
ॾाॾे जे पोखियल निम जे वण हेठां
ऐं घुमाईन्दो हो हथ
ज़मीन ते धीरे धीरे
भरे वठन्दो हो वारी हथनि में
ऐं पूरे छॾीन्दो हो अखियूं

इएं लॻन्दो हो ॼणु
ॾिसी रहियो आहे को सुपनो
पहुची वियो आहे
पंहिंजे ॻोठि ‘भिरियनि’ में
कंहिंजी बि हिमथ कान थीन्दी हुई
त खेसि हुन दुनिया मां कढी वठी अचे
हुन दुनिया में अहिड़ियूं पवित्र घड़ियूं
जॾहिं बि ईंदियूं हुयूं त
माउ चवन्दी हुई
हू आहिनि पूॼा ध्यान में
हू समुझी न सघियो तॾहिं
इन्हीअ ॻाल्हि जो मतलबु
अजु समुझी सघे थो
जॾहिं
विकामिजी रही आहे
उहा जाइ
जंहिं जे अङण में
गुज़िरियो हो
हुन जो ॿालपणु... नंढपणु!