भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ज़रूरत भी नहीं है / निरंजन श्रोत्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भरोसा नहीं होता लेकिन यह सच है
वह कभी कह नहीं पाई अपनी माँ से
न जाने क्यों
अपनी सग़ी बहन से भी
लेकिन शादी के बाद उसने साझा किया
इसे अपनी ननद से
कोई गायनी प्राब्लम थी उसे!

देवर उसका नाम सुनील
अपनी भाभी के लिए दरअसल एजेंट सुनील
समस्या कोई भी सुलटा सकता पलक झपकते

एक दिन जब उसे अपने एकांत में फफक कर रोना था
वह रोई अपने ससुर के सीने में मुँह छुपाकर
अरे....जो निकले उसके पिता ही
रोई इतना कि भींग गया कुरता उनका

और अंत में जिसे भारतीय परंपरा में
'सास' कहते हैं
मुट्ठी में भींचते हुए एक पत्र समझाया उसे...
'बेटी...बचपन में हो जाती है ऐसी नादानी
पूरा जीवन पड़ा है सामने...!'

इस तरह एक औरत
इस इक्कीसवीं सदी में
आत्महत्या करने से बच गई

यह सब उसके पति तक को पता नहीं था
कथित ससुराल वालों का मानना था
--इसकी ज़रूरत भी नहीं है!