भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़र्रे-ज़र्रे के होठों पे वा देखकर / सूरज राय 'सूरज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़र्रे-ज़र्रे के होठों पर वा देखकर।
मौत चौंकेगी मेरा नवा देखकर॥

ज़ह्र बहता है अब यूं लहू में मेंरे
जान जाती है सचमुच दवा देखकर॥

मिन्नतें, चापलूसी, दिखावा, सना
लोग करते हैं ख़ुद से सवा देखकर॥

सिर्फ़ महसूस करते हैं गांवों में हम
लोग शहरों से आए हवा देखकर॥

मुद्दतों बाद इक मुठ्ठी आटा मिला
आज रो देगा चूल्हा तवा देखकर॥

क़र्ज़ है तुझपे "सूरज" मेरी इक सहर
आ भी जाना कभी पल रवा देखकर॥