भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िंदगी ख़ाक में भी थी तिरे दीवाने से / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िंदगी ख़ाक में भी थी तिरे दीवाने से
अब न उट्ठेगा बगूला कोई वीराने से।

इस क़दर हो गई कसरत तिरे दीवानों की
क़ैस घबरा के चला शहर को वीराने से।

जल-मरा आग मोहब्बत की इसे कहते हैं
जलना देखा न गया शम्अ का परवाने से।

किस की बेगाना-वशी से ये तहय्युर आया
कि अब अपने भी नज़र आते हैं बेगाने से।

शैख़ साहब भी हुए मोतक़िद-ए-पीर-ए-मुग़ाँ
आज ये ताज़ा ख़बर आई है मय-ख़ाने से।

इतनी तौहीन न कर मेरी बला-नोशी की
साक़िया मुझ को न दे माप के पैमाने से।

ऐ 'वफ़ा' अपने भी जब आँख चुरा लेते हैं
बे-रुख़ी का हो गिला क्या किसी बेगाने से।