भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी को ग़र्क़ कर दे जो खुमो-खुमार में / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी को ग़र्क़ कर दे जो खुमो-खुमार में
क्या तमीज़ उसे हो बेक़रारी-ओ-क़रार में

राह देखते ही देखते तमाम शब गयी
इक चिराग़ बुझ गया सहर के इन्तिज़ार में

एक है चमन, मगर ये खेल है नसीब का
फूल कुछ न खुल के खिल सके भरी बहार में

आदमी के वास्ते भी है वो लाज़िमी बहुत
जिस सिफ़त का है वुजूद दुर्रे-आबदार में

ख़ामुशी से वक़्त को गुज़ारिये कुछ इस तरह
कुछ कमी न आने पाये आपके वक़ार में