भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी से-1 / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदियों के उफ़ान की तरह मेरे
गालों की छिन नहीं सकोगी लाली ।
तुम-- शिकारी पर हार नहीं मानूंगी मैं
तुम दौड़ हो तो मैं रफ़्तार ।

तुम ज़िन्दा नहीं पकड़ सकोगी मेरी आत्मा-
अपनी दौड़ की पूरी तेज़ी में
अपनी नसें चबाता हुआ
अराबीया का यह लचीला घोड़ा ।


रचनाकाल : 25 दिसम्बर 1924

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह