भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी से उन्स है / साहिर लुधियानवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी से उन्स है, हुस्न से लगाव है

धड़कनों में आज भी इश्क़ का अलाव है

दिल अभी बुझा नहीं, रंग भर रहा हूँ मैं

ख़ाक-ए-हयात में, आज भी हूँ मुनहमिक1

फ़िक्र-ए-कायनात में ग़म अभी लुटा नहीं

हर्फ़-ए-हक़ अज़ीज़ है, ज़ुल्म नागवार है

अहद-ए-नौ से आज भी अहद उसतवार2 है

मैं अभी मरा नहीं

1 मुनमहिक=संलग्न; 2 उसतवार=पुष्ट