भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी है तो कुछ सुकूँ भी हो, और कुछ इज़्तिराब भी होवे / रवि सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी है तो कुछ सुकूँ भी हो, और कुछ इज़्तिराब[1] भी होवे 
बारहा[2] हो सवाल आसां भी, बारहा लाजवाब भी होवे 

माहो[3] -ख़ुर्शीदो[4]-कहकशाँ[5] ये ख़ला[6], ग़र्दिशे-आसमाँ में मानीं क्या  
दश्त[7] में सख़्त-जाँ मुसाफ़िर हो, चश्म[8] होवे सराब[9] भी होवे

यूँ तो दुनिया का खेल बाहर है, इक तमाशा है मेरे अन्दर भी 
जिसमें दोनों जहाँ के क़िस्से हों, एक ऐसी किताब भी होवे

आप को कायनात चुननी थी, मुझको चुनना था इक गुले-नग़्मा
अब हक़ीक़त के लबों पे मेरा नग़्मा-ए-इन्तिख़ाब[10] भी होवे
   
आलमे-ग़म को रोक रक्खा है ये जो दीवार गिर्दे-बाग़े-बहिश्त[11]  
उनकी ज़िद है कि इसमें रौज़न[12] हो, औ’ निकलने को बाब[13] भी होवे

ख़ुल्द[14]-ओ-ख़ल्क़[15] के क़ानून अलग, वज्ह इसकी भी तलाशी जाए 
वो जो सबका हिसाब करते हैं, आज उनका हिसाब भी होवे 

अपनी हस्ती की तवालत[16] पे गुमां, गरचे उजड़े नहीं बने भी कहाँ 
रख्ते-तारीख़[17] में यहाँ के लिए शाइस्ता[18] इन्क़लाब भी होवे
 
देख दौलत की कामरानी[19] को, इस तरक़्क़ी की तबाही को न देख
जश्ने-जम्हूरियत में मुमकिन है ज़िक्रे-ख़ाना-ख़राब[20] भी होवे 

एक ख़ामोश उम्र गुज़री है, अब बुढ़ापे में शेर कहते हैं 
उस पे ख़्वाहिश कि तालियाँ भी बजें, और सर पे ख़िताब भी होवे 

शब्दार्थ
  1. बेचैनी (restlessness)
  2. अक्सर (often)
  3. चाँद (Moon)
  4. सूरज (Sun)
  5. आकाशगंगा (Milky Way)
  6. अन्तरिक्ष (Space)
  7. रेगिस्तान (Desert)
  8. आँख (Eye)
  9. मृग-मरीचिका (Mirage)
  10. चुना हुआ गीत (selected song)
  11. स्वर्ग के चारों ओर (around the heaven)
  12. खिड़की (window)
  13. दरवाज़ा (door, gate)
  14. स्वर्ग (Heaven)
  15. सृष्टि, अवाम (Universe, People)
  16. दीर्घता (of long duration)
  17. इतिहास के साज़ो-सामान (materials of history)
  18. सभ्य (cultured)
  19. सफलता (success)
  20. बर्बाद लोगों का उल्लेख (mention of those who have been destroyed)