भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी / भानुमती नागदान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राह में जाते हुए बच्चों से पूछा
बोलो बच्चों क्या है ज़िन्दगी?
बच्चों ने अपने वज़नदार बस्तों को अपनी पीठ पर अच्छी तरह चढ़ाते हुए कहा
हमारा स्कूली बसता , ट्यूशन और C.P.E की लड़ाई जीतना ये ही है हमारी ज़िन्दगी ।
राह में दौड़ती हुई लड़कियों से पूछा
बोलो तुम्हारे लिए क्या है ज़िन्दगी
मुंह में रोटी का टुकड़ा-जल्दी जल्दी चबाते हुए उन्होंने कहा
फैक्टरी, ओवर टाइम यही है ज़िन्दगी ।
राह में चलते बुज़ुर्ग से पूछा
बोलो बाबा क्या है ज़िन्दगी ?
पेन्शन के मिले हज़ार रुपए से महीना पूरा करना ये ही है ज़िन्दगी ।
दफ्तर जाते हुए बाबू से पूछा
बोलो क्या है ज़िन्दगी
प्रोमोशन पाना ही मेरे लिए ज़िन्दगी है ।
देश के नेता से पूछा बोलो ज़िन्दगी क्या है ?
हमारी कुर्सी सलामत रहे ये ही है ज़िन्दगी ।
जुआरी से पूछा
बोलो क्या है ज़िन्दगी ।
बस जानवरों की जीत पर दाव लगाना ये ही है ज़िन्दगी ।
मैंने अपने आप से पूछा
क्या है ज़िन्दगी
देखा तो सामने से बाहें फैलाए आ रहा था मेरा आदर्श
मेरे लिए ये ही है ज़िन्दगी !