भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ुबाँ को बन्द करें या मुझे असीर करें / बृज नारायण चकबस्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ुबाँ को बन्द करें या मुझे असीर करें
मेरे ख़याल को बेड़ी पिन्हा नहीं सकते ।

ये कैसी बज़्म[1] है और कैसे इसके साक़ी[2] हैं
शराब हाथ में है और पिला नहीं सकते ।

ये बेकसी भी अजब बेकसी है दुनिया में
कोई सताए हमें हम सता नहीं सकते ।

कशिश[3] वफ़ा की उन्हें खींच लाई आख़िरकार
ये था रक़ीब[4] को दावा वे आ नहीं सकते ।

जो तू कहे तो शिकायत का ज़िक्र कम कर दें
मगर यक़ीं[5] तेरे वादों पै ला नहीं सकते ।

चिराग़ क़ौम का रोशन है अर्श पर दिल के
इसे हवा के फ़रिश्ते बुझा नहीं सकते ।

शब्दार्थ
  1. महफ़िल
  2. शराब पिलाने वाला
  3. आकर्षण की शक्ति
  4. शत्रु
  5. विश्वास