भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिख्खा मैंने / अनवर जलालपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिख्खा मैंने
आज तक कोई क़सीदा नहीं लिख्खा मैंने

जब मुख़ातब किया क़ातिल को तो क़ातिल लिख्खा
लखनवी बन के मसीहा नहीं लिख्खा मैंने

मैंने लिख्खा है उसे मर्यम ओ सीता की तरह
जिस्म को उस के अजन्ता नहीं लिख्खा मैंने

कभी नक़्क़ाश बताया कभी मेमार कहा
दस्त-फ़नकार को कासा नहीं लिख्खा मैंने

तू मिरे पास था या तेरी पुरानी यादें
कोई इक शेर भी तन्हा नहीं लिख्खा मैंने

नींद टूटी कि ये ज़ालिम मुझे मिल जाती है
ज़िन्दगी को कभी सपना नहीं लिख्खा मैंने

मेरा हर शेर हक़ीक़त की है ज़िन्दा तस्वीर
अपने अशआर में क़िस्सा नहीं लिख्खा मैंने