भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ेनिया एक-11 / एयूजेनिओ मोंताले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: एयूजेनिओ मोंताले  » ज़ेनिया एक-11

तुम्हारे आँसुओं की स्मृति
(उतनी ज़ोर मैं दो बार रोया)
तुम्हारी हँसी के बीहड़ ठहाकों को
धो नहीं सकती ।

वे एक तरह के पूर्व आस्वाद थे,
उसे तुम्हारे अपने निजी
’क़यामत के फ़ैसले’ के,
आह, जो कभी जारी नहीं हुआ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल