भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ेनिया एक-8 / एयूजेनिओ मोंताले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: एयूजेनिओ मोंताले  » ज़ेनिया एक-8

तुम्हारा इस क़दर रुक-रुककर,
भदेस लहज़े में बोलना—
ख़ुद को तसल्ली देने को
फ़क़त यही बच रहा है मेरे पास ।

लेकिन
लहज़ा बदल गया है
और रंगत भी ।

आदी हो जाऊँगा
तुम्हें सुनते रहने का,
तुम्हारे गूढ़ार्थ खोलने का—

टेली-टाइप की क्लिक-क्लैक में,
ब्रिसागो सिगारों से फूटते
धुएँ के कुंडलीचक्रों में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल