भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ेहनों में भेदभाव की दीवार किसलिए ? / शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ेहनों में भेदभाव की दीवार किसलिए ?
सबका ख़ुदा वही तो है तकरार किसलिए ?
 
सबको तलब है जब यहाँ अम्नो-अमान की,
खिंचती है बात-बात पे तलवार किसलिए ?
 
संदेश इनके प्यार का किसने चुरा लिया,
अंदेशा लेके आते हैं त्यौहार किसलिए ?
 
जब इसका इल्म था कि ये धोया न जाएगा,
मैला किया था आपने किरदार किसलिए ?
 
चलना है सबको साथ, मगर इस सवाल पर
धीमी है सबके पाँव की रफ़्तार किसलिए ?
 
शाहिद कभी तो भीड़ से ये भी उठे सवाल
भारी हुए समाज पे दो-चार किसलिए ?