भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जागो / नजवान दरविश / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिरकाल तक नहीं बल्कि देर तक जागो
और अब से अनन्तकाल के पहले तक
मेरी जागृति एक लहर है फेनिल और झागदार

जागो ऋचाओं में और डाकिये के जुनून में जागो
जागो उस घर में जिसे कर दिया जाएगा मटियामेट
उस क़ब्र में, मशीनें जिसे खोदने वाली होंगी :
मेरा देश एक लहर है फेनिल और झागदार

जागो कि उपनिवेशवादियों को जाना ही पड़े
जागो कि लोग सो सकें
’हर किसी को कुछ देर सोना चाहिए’
वे कहते हैं
मैं जाग रहा हूँ
और तैयार हूँ मरने के लिए

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र