भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाड़ा भूल गया है / ऊलाव हाउगे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ऊलाव हाउगे  » जाड़ा भूल गया है

जाड़ा सफ़ेद गायों को
पर्वत पर भूल गया है
जहाँ वे हरी ढलानों पर चरती हैं।

लेकिन वसन्त का सूरज
और घास बहुत बलवान हैं
हर एक दिन गायें
पतली होती जा रही हैं।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रुस्तम सिंह