भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाड़े की सुबह / ऊलाव हाउगे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ऊलाव हाउगे  » जाड़े की सुबह

आज जब मैं जागा
तो काँचों पर बर्फ़ थी
पर मैं एक अच्चॆ सपने से
गरमाया हुआ था।

पर आतिशदान
कमरे में गर्मी फैला रहा था
लकड़ी के एक टुकड़े ने
उसे गुनगुना बनाए रखा था।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रुस्तम सिंह