भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाड़े के बर्फ़ीले दिन / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाड़े के बर्फ़ीले दिन,
लाल गुलाबी पीले दिन।

स्वेटर, मफ़लर, कनटोपे,
पहन के निकले गीले दिन।

लम्बी-लम्बी कीलें रात
छोटे और नुकीले दिन।

फ़ाग के मोज़ों से निकले,
नंगे पाँव हठीले दिन।

नाक पे आकर बैठ गए,
पाजी सर्द चुटीले दिन।

रख दीजे संदूकों में,
गर्मी वाले ढीले दिन।