भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जादू / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दृश्यों की भी एक शाब्दिक आहट होती है
जिसे कान पहचान लेते हैं
बे-ज़ुबान कान भी चख लेते हैं ध्वनियाँ
घने दृश्यों के जंगल से गुज़रती
न दिखती हवा को भी
देख लेती है हमारी त्वचा
जो कई बार की छुई हुई दुनिया के लिए
छिपाकर रखती है
हर बार पहली बार छूने का जादू