भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जानते हैं हम कहाँ जाती है धूप / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जानते हैं हम कहां जाती है धूप
है नहीं, सबकी नज़र आती है धूप

जिनके सहनों में हुआ करते हैं जश्न,
उनकी धुन पर नाचती-गाती है धूप

भीड़ से मिलती है पूरे तैश में फिर,
झुग्गियों पर आग बरसाती है धूप

लौटती है घर थकी, लादे अंधेरा,
आदमी की मौत पर मर जाती है धूप

आप ही देखें मिलाकर आंख इससे
मान जाएंगे क़हर ढाती है धूप

डूबती सांसें दिये की कह रही हैं
मेरा जलना सह नहीं पाती है धूप