भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जाने कितने बिनायक सेन और चाहिए / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमें फख़्र है
तुम्हारे चुनाव पर साथी
कि तुमने चुनी
ऊबड़-खाबड़
पथरीली राह ।

हमें ख़ुशी है कि
तुमने नहीं मानी हार
और किया वही,
जो ज़रूरी था
किया जाना ।

तुम्हें सज़ा देने के बहाने
एक बार फिर
बेनकाब हुई
न्याय-व्यवस्था ।
जागी एक उम्मीद कि
शायद इस बार
जाग ही जाएँ
सोती हुई कौमें ।

तुम्हें दुःख नहीं है सज़ा का
जानते हैं हम,
तुमने तो जान-बूझकर
चुना था यही जीवन.
दुःख हमें भी नहीं है
क्योंकि जानते हैं हम भी
सच बोलने का
क्या होता रहा है अंजाम
सुकरात और ईसा के ज़माने से ।

हमें तो आती है शर्म
कि लोकतंत्र में
जहाँ जनता ही है असल ताक़त
जनता ही कितनी बेपरवाह है
इस सबसे ।

न जाने कितने बलिदान
माँगती है जनता
एकजुट होने के लिए,
एक स्वर में
निरंकुश सत्ता के ख़िलाफ़
बिगुल बजाने के लिए,
खोलने के लिए मोर्चा
न जाने कितने बिनायक सेन
अभी और चाहिए ।