भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जाने किस—किसका ख़्याल आया है / दुष्यंत कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने किस—किसका ख़्याल आया है

इस समंदर में उबाल आया है


एक बच्चा था हवा का झोंका

साफ़ पानी को खंगाल आया है


एक ढेला तो वहीं अटका था

एक तू और उछाल आया है


कल तो निकला था बहुत सज—धज के

आज लौटा तो निढाल आया है


ये नज़र है कि कोई मौसम है

ये सबा है कि वबाल आया है


इस अँधेरे में दिया रखना था

तू उजाले में बाल आया है


हमने सोचा था जवाब आएगा

एक बेहूदा सवाल आया है