भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने क्युँ / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब शामें कहाँ ढलती है...
बस रात के एकल सफ़र का आगाज होता है।
अब रातों को नींद कहाँ आती है...
बस सुबह का इंतजार होता है।
अब रातों से डर-सा लगता है...
सपनों की जगह ख़ौफ पलते हैं
मेरे अंदर, मेरे करीब।
आँखों में भी अब फीकी रोशनी की चिलमन है।
दिन का उजाला भी कहा साफ नजर आता है।
जाने क्यूँ...
दिन रात अब मेरे पास एक उदास इंतजार रहता है।