भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाळ / किशोर कुमार निर्वाण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मकड़ी बणावै जाळ
पतळो अर झीणो-झीणो
जकै मांय फंस जावै
केई जीव-जंत
गंवा देवै
आपरी जान।
 
मिनख ई बणावै जाळ
बिना धागां रो झीणो-झीणो
जको दीखै ई नीं
फंस जावै
केई जीव-जंत
अर भोळा मिनख
खो देवै सो क्यूं ई!