भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जा भाग्यानी तू मैत न्है जा / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जा भाग्यानी तू मैत न्है जा

मेरो रैवार बई मूं ली जा

इनु बोल्यान तुम बई मूं मेरी

खुद लगी छ बल बई तेरी

बाबा को बोयान तुमन भलों करे

रुपयों खैक मेरो बुरो करे

बाबा न दिने चौ डाण्डों पोर

भायों न करे रुपयों जोर

भौजी क बोल्यान मैं जागी रौ लो

यूँ की हालात तबो लौलो

ये गौं छ पाणी दूरो

मऊ पूस क छ जाड़ो बूरो


भावार्थ


--'जा भाग्यशालिनी, तू पीहर को चली जा,

मेरा सन्देश माँ के पास ले जा ।

ऎसे कहना : तुम मेरी माँ हो,

तुमसे मिलने की बहुत भूख लगी है, माँ!

पिता से कहना--तुमने अच्छा किया,

रुपए खाकर तुमने मेरा बुरा कर डाला ।

पिता ने मुझे चार पहाड़ों के पार दे दिया

भाइयों ने भी रुपया लेने पर ज़ोर दिया ।

भाई जी से कहना : मैं बाट जोहूंगी

यहाँ की हालत तभी सुन लेना ।

इस गाँव का पानी बहुत दूर है, माँ!

माघ-पूस का जाड़ा भी बहुत बुरा है ।'