भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिगर और दिल को बचाना भी है / मजाज़ लखनवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जिगर और दिल को बचाना भी है
नज़र आप ही से मिलाना भी है

महब्बत का हर भेद पाना भी है
मगर अपना दामन बचाना भी है

ये दुनिया ये उक़्बा[1] कहाँ जाइये
कहीं अह्ले -दिल[2] का ठिकाना भी है?

मुझे आज साहिल पे रोने भी दो
कि तूफ़ान में मुस्कुराना भी है

ज़माने से आगे तो बढ़िये ‘मजाज़’
ज़माने को आगे बढ़ाना भी है

शब्दार्थ
  1. (अ.)परलोक;यमलोक
  2. दिल वालों का