भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जिण ढाळै आयो आज आंख सूं बारै औ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिण ढाळै आयो आज आंख सूं बारै औ
मन-पीड़ बतासी जग नै चढ चौबारै औ

लागै दुख-धाड़ेती म्हांनै कोनी छोडै
सांस लेवतां ई होग्यो म्हांरै लारै औ

कीं देवाळ नईं तो ई म्हैं चावां थांनै
मन छेकड़ मन है कोनी रैवै सारै औ

आ मानी एक भाठै सूं टूटै कोनी गढ
जतन सूं राख कदै काम आसी थारै औ

बीज है बीज ओळख इण री अखूट ताकत
माटी री आं पुडतां नै कोनी धारै औ